राष्ट्रीय

Blog single photo

बाढ़ से बेहाल कर्नाटक, सीतारमण का दौरा, सीएम ने केंद्र से मांगे तीन हजार करोड़

10/08/2019

नूरुद्दीन रहमान
कुमारस्वामी का बाढ़ प्रभावित इलाके का दौरा
नेत्रावती का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर
बस सेवाएं बाधित, बाढ़ के कारण कई ट्रेनें रद्द
मैसूरू में घरों को नुकसान, स्टेडियम जलमग्न
बेंगलुरु, 10 अगस्त (हि.स.)। मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि उन्होंने तत्काल बाढ़ राहत कार्यों के लिए केंद्र सरकार से 3,000 करोड़ रुपये की मांग की है। प्रदेश के 17 जिलों में बाढ़ और भारी वर्षा ने कुल 80 तालुकों को प्रभावित किया है, जिससे 24 लोगों की मौतें हुईं और 14,000 से अधिक घर क्षतिग्रस्त हुए हैं। उन्होंने कहा कि बाढ़ और भारी बारिश से फसलें बर्बाद होने और विभिन्न संपत्तियों को क्षति पहुंचने से 6000 करोड़ रुपये की क्षति हुई है। हालांकि, मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने बाढ़ राहत कार्यों को देखने के आज मेंगलुरु दौरे को किसी अज्ञात कारण से स्थगित कर दिया। अब उनकी रविवार सुबह 8:30 बजे वहां जाने की योजना है। 
निर्मला सीतारमण ने बाढ़ राहत कार्यों का जायजा लिया
उधर, शनिवार सुबह केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण शनिवार को बेलगावी पहुंचीं और उन्होंने यहां बाढ़ राहत कार्यों का जायजा लिया। केंद्रीय वित्त मंत्री ने बेलगावी शहर के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों धामणे रोड, साई कॉलोनी, शिवाजी नगर का दौरा किया। उन्होंने पुणे-बेंगलुरु राष्ट्रीय राजमार्ग पर बाढ़ से प्रभावित मार्केंडेय नदी का भी दौरा किया।
नेत्रावती नदी खतरे के निशान से ऊपर 
दक्षिण कन्नड़ जिले में हो रही भारी बारिश से नेत्रावती नदी का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर आ गया है। खतरे का निशान जो 8.5 मीटर पर है, आज सुबह 11.6 मीटर पर पहुंच गया है। 25 जुलाई 1974 के बाद से यह नया रिकॉर्ड है। दक्षिणा कन्नड़ जिले में भारी वर्षा के कारण पुत्तुर स्थित चेल्याडका ब्रिज को बंद कर दिया गया है।
सरकारी बस सेवाएं बाधित 
शनिवार दोपहर को मैसूर-चामराजनगर खंड और दक्षिण कन्नड़ के शिरडी घाट में भारी बारिश और भूस्खलन के कारण बस सेवा संचालन बाधित हुआ है। शिवमोग्गा और दावणगेरे के कुछ हिस्सों की सेवाएं भी बाधित हुई हैं। केएसआरटीसी के अधिकारियों के अनुसार, टी नरसीपुरा रोड के माध्यम से चामराजनगर के लिए बसों का संचालन बहाल कर दिया गया है, लेकिन नंजनगुड के रास्ते मुख्य मार्ग को बंद किया गया है। 
मैसूरु जिले में 427 घर क्षतिग्रस्त 
मैसूरु जिले में भारी बारिश और बाढ़ की स्थिति के चलते 427 घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं। आईएमडी के पूर्वानुमान के अनुसार, भारी वर्षा वाले भागों के जिले के जारी रहने की संभावना है। पिछले दो दिनों से अकेले एच डी कोटे तालुक में कम से कम 199 घर ढह गए हैं। स्थानीय कृष्णराज सागर (केआरएस) बाँध के जलस्तर ने 108.50 फीट का निशान पार कर लिया है जबकि इसकी क्षमता 124.80 फीट है।
शिवमोग्गा में स्टेडियम हुआ जलमग्न 
शहर के सांवलंगा रोड पर कर्नाटक स्टेट क्रिकेट एसोसिएशन (केएससीए) का स्टेडियम पिछले एक सप्ताह से जारी बारिश के कारण जलमग्न हो गया है। बारिश के बाद अब यह तालाब जैसा दिखता है। नागरिक हितरक्षण वेदिके के महासचिव अशोक यादव का दावा है कि संघ ने क्लब हाउस के पास स्टेडियम का निर्माण करने के लिए चार एकड़ भूमि का अतिक्रमण किया है।
कई ट्रेन सेवाओं को रद्द किया गया 
दक्षिण पश्चिम रेलवे मैसूरु, डिवीजन ने तलगुप्पा खंड के शिवमोग्गा-मैसूरु मंडल में कुम्सी और तलगुप्पा रेलवे स्टेशनों पर पटरियों के बीच पानी आ जाने के कारण ट्रेन सेवा को रद्द कर दिया गया है। ट्रेन नंबर 56217/56218 तलगुप्पा- टाउन-तलगुप्पा पैसेंजर को पूरी तरह से रद्द किया गया है। एक अन्य ट्रेन 16206/16205 मैसूरु-तलगुप्पा-मैसूरु एक्सप्रेस को शिवमोग्गा टाउन और तलगुप्पा के बीच आंशिक रूप से रद्द कर दिया गया है। 
पूर्व मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया
शनिवार तड़के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने बेलगावी में बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रो का दौरा कर राहत कार्यों के सम्बन्ध में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि बाढ़ से जिले में भारी क्षति हुई है। कुमारस्वामी रविवार को कोडगु और मैसूरु जायेंगे। उन्होंने केंद्र सरकार से अनुरोध किया कि वह कर्नाटक को अधिक धन मुहैया कराए।
राहत कार्यों के लिए विशेष पैकेज की मांग 
पूर्व उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर ने कर्नाटक के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत कार्यों के लिए 10,000 करोड़ रुपये के विशेष पैकेज जारी करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि सूखे और बाढ़ ने कर्नाटक के कई हिस्सों को प्रभावित किया है और राज्य सरकार संकट से निपटने में विफल रही है।
हिन्दुस्थान समाचार


 
Top