अपराध

Blog single photo

दिल्ली : फर्जी वेबसाइट बनाकर विदेशी पर्यटकों से ठगी, महिला समेत तीन गिरफ्तार

10/08/2019

अश्वनी शर्मा
नई दिल्ली, 10 अगस्त (हि.स.)। पश्चिम जिले की साइबर सेल ने फर्जी वेबसाइट बनाकर विदेशी पर्यटकों से ठगी करने वाले गैंग का खुलासा करते हुए उक्त मामले में एक महिला समेत तीन आरोपितों को शुक्रवार को गिरफ्तार किया है। आरोपितों ने भारत सरकार के ऑनलाइन ई-वीजा वेबसाइट के नाम पर फर्जी वेबसाइट बना रखी थी, जिस पर संपर्क करने पर आरोपित विदेशी पर्यटकों से विदेशी करेंसी वसूल लेते थे। पुलिस ने आरोपितों के कब्जे से एक लैपटॉप, हार्डडिस्क, पांच मोबाइल फोन और बैंक अकाउंट की जानकारी हासिल की है। 

डीसीपी मोनिका भारद्वाज ने बताया कि आरोपितों की पहचान द्वारका निवासी वरुण अहलूवालिया, रोहिणी निवासी निपुण और चाणक्य प्लेस निवासी अनु श्रीवास्तव के रूप में हुई है। शनिवार को डीसीपी ने बताया कि जिले की साइबर सेल कर्मियों को जानकारी मिली थी कि कुछ लोग पश्चिम दिल्ली में फर्जी ई-वीजा सेंटर चला रहे हैं। भारत सरकार की वेबसाइट फर्जी वेबसाइट बनाकर विदेशी पर्यटकों को ऑनलाइन वीजा मुहैया करवाती है। जिस पर साफ तौर पर उल्लेख है कि भारत सरकार ने किसी भी एजेंट या मध्यस्थ को अधिकृत नहीं किया है, जो ई-वीजा के लिए कोई शुल्क ले सके। साइबर सेल की टीम ने तकनीकी जांच करते हुए तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। 

पूछताछ में पता चला कि वरुण और निपुण ने एक कंपनी को कारर्पोरेट मामलों के मंत्रालय से रजिस्टर्ड करवाया। उसके बाद उन लोगों ने एक फर्जी वेबसाइट बनाया और तिलक नगर में एक सेंटर खोला। जो भी पर्यटक गूगल के जरिए ई-वीजा लेने के लिए भारत सरकार की वेबसाइट पर संपर्क करते थे। उन्हें आरोपित फर्जी वेबसाइट के जरिए फंसा लेते थे और उनसे वीजा आवेदन के लिए 173 से 240 यूएस डॉलर ले लेते थे। उसके बाद आरोपित उनके आवेदन को भारत सरकार के वेबसाइट पर डाल देते थे। जिस पर्यटकों का आवेदन खारिज हो जाता था आरोपित उनसे सर्विस चार्ज के तौर पर 50 से 60 यूएस डॉलर लेकर उन्हें बाकी रकम लौटा देते थे।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top