राष्ट्रीय

Blog single photo

पाकिस्तान ने भारत के साथ रोका कारोबार

12/08/2019

संजीव शर्मा

-आज बाघा सीमा पर माल लेकर नहीं पहुंची पड़ोसी देश की कोई गाड़ी 
चंडीगढ़, 12 अगस्त (हि.स.)। केंद्र सरकार के जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को समाप्त करने से बौखलाए पाकिस्तान ने अब व्यापारिक संबंधों पर बर्बरता दिखानी शुरू कर दी है। पाकिस्तान से दैनिक उपभोग का सामान लेकर नियमित पहुंचने वाली कोई भी गाड़ी भारत नहीं आई। हालांकि भारत से भी सामान नहीं भेजा गया। इसके पीछे की वजह अभी साफ नहीं हुई है लेकिन भारतीय अधिकारियों ने आशंका जताई है कि संभवतः  ईद और 15 अगस्त के मद्देनजर पाकिस्तान ने यह कदम उठाया है। 
लैंड पोर्ट अधिकारियों का दावा है कि पहले से सामान की आपूर्ति कम करने वाले पाकिस्तान ने अब तीन दिन के लिए कारोबार पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया है। पकिस्तान से भारत को रोजाना औसतन 19 तरह का सामान भेजा जाता है। इसमें नमक, अमरूद, आम और अनानास आदि शामिल है। इसके अलावा पाकिस्तान से सीमेंट, खनिज पदार्थ, तैयार चमड़ा, प्रोसेस्ड फूड, अकार्बनिक रसायन, कच्चा कपास, मसाले, ऊन, रबड़ उत्पाद, चिकित्सा उपकरण, प्लास्टिक, डाई और खेल का सामान भी भारत आता रहा है। 
भारत हरा मटर, गोभी, प्याज, टमाटर, साइकिल, लोहे के पुर्जे, प्लास्टिक का सामान आदि नियमित रूप से पाकिस्तान भेजता रहा है। अब केवल प्लास्टिक यार्न तथा प्लास्टिक का दाना और कभी कभार प्याज आदि पाकिस्तान जाता है। पाकिस्तान से रोजाना 50 से 55 ट्रक सामान भारत आता रहा है। 
भारत सरकार ने पाकिस्तान से आने वाले प्रत्येक सामान पर इंपोर्ट ड्यूटी यानी सीमा शुल्क में 200 प्रतिशत तक की वृद्धि कर दी थी। इसके चलते पाकिस्तान की तरफ से भारत में आने वाले सामान की मात्रा काफी कम हो चुकी है। पिछले कुछ दिनों से पाकिस्तान की तरफ से मुख्य रूप से नमक, सीमेंट तथा फल आदि भारत आ रहे थे। इसी उठापटक के बीच सोमवार दोपहर पाकिस्तान की तरफ से एक भी ट्रक सामान लेकर बाघा चौक पोस्ट पर नहीं पहुंचा। 
लैंड पार्ट अथारिटी के अधिकारियों ने इस बारे में पाकिस्तान के अधिकारियों से बातचीत की है। पाकिस्तान के अधिकारियों ने कहा है कि  भारत में सामान भेजने को लेकर कोई लिखित आदेश नहीं हैं। तीन दिन के लिए सप्लाई नहीं भेजने के मौखिक आदेश जारी हुए हैं। पाकिस्तान की तरफ से सोमवार को सामान नहीं भेजे जाने के बाद भारत की तरफ से भी कोई सामान नहीं भेजा गया। इस बारे में संपर्क करने पर लैंड पोर्ट अथारटी के प्रभारी सुखदेव सिंह ने बताया कि इस बारे में कोई लिखित जानकारी नहीं आई है। तीन दिन के लिए कारोबार बंद होने की मौखिक बातचीत ही पता चल रही है। 
कारोबार में आई गिरावटः भारत और पाकिस्तान के संबंधों में खटास से सीधे तौर पर कारोबार प्रभावित हो रहा है। अटारी-वाघा सीमा के माध्यम से वर्ष 2014-15 में भारत का निर्यात 2,117 करोड़ रुपये था जो वर्ष 2018-19 में कम होकर 131 करोड़ रुपये रह गया। इसी तरह 2014-15 में आयात 2,368 करोड़ था जोकि वर्ष 2018-19 में कम होकर 721 करोड़ रह गया।
हिन्दुस्थान समाचार


 
Top