क्षेत्रीय

Blog single photo

मप्र में बारिश से फसलें बर्बाद, शिवराज ने ट्वीट कर सरकार को घेरा

12/09/2019

नेहा पाण्डेय 
भोपाल, 12 सितम्बर (हि.स.)। मध्य प्रदेश में सितम्बर महीने में भारी बारिश के चलते 32 से अधिक जिले बाढ़ की चपेट में हैं। सूबे में अधिकांश भागों में हो रही भारी बारिश के चलते जहां आम जनजीवन बेहाल है, वहीं मूसलाधार बारिश ने किसानों को बड़ी मुसीबत में डाल दिया है। बारिश से खेतों में पानी भरने से सबसे अधिक नुकसान सोयाबीन का फसल को हुआ है। मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश सरकार से किसानों के नुकसान का सर्वे कराकर उन्हेंं आर्थिक राहत देने की मांग की है। 

दरअसल बुधवार को शिवराज सिंह चौहान विदिशा में थे। इस दौरान उन्होंने जिले में बारिश से प्रभावित क्षेत्रों का मौका मुआयना किया। शिवराज ने जिले के जतरापुरा में जलभराव से प्रभावित इलाकों का भ्रमण किया एवं पीड़ितों को सरकार से उचित मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया। बुधवार देर रात शिवराज ने ट्वीट कर लिखा ‘अतिवृष्टि के कारण पूरे प्रदेश में नुकसान हुआ है। विदिशा के एक किसान के खेत में उनकी फसल देखी। खेत नदी बने हुए हैं, फसलें सड़ रही हैं और किसान बरबादी की कगार पर हैं। भिंडी, गिलकी, सोयाबीन सहित अन्य फसलें पूरी तरह नष्ट हो गई हैं। महलों में बैठकर इसका आंकलन नहीं हो सकता।'

शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री कमलनाथ से आग्रह करते हुए लिखा कि ‘आप और आपके मंत्रिमंडल के सदस्य बाहर निकलकर जरा इस तबाही को देखें। फसलें खराब होने के साथ ही किसानों की जिंदगी और उनके बच्चों का भविष्य अंधकारमय हो गया है। इन किसानों की फसलों का सर्वे कर तत्काल राहत देकर नुकसान की भरपाई की जानी चाहिए। शिवराज ने सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि यह मैं नहीं, किसान भाई-बहन खुद अपने मुंह से कह रहे हैं कि हमारी दुर्दशा देखने या मदद करने के लिए सरकार का कोई आदमी अब तक नहीं पहुंचा है। मैं पूछना चाहता हूं कि किस बात का इंतज़ार किया जा रहा है? किसानों की हितैषी बनने वाली सरकार क्या ऐसे किसानों का भला कर रही है?

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top