युगवार्ता

Blog single photo

बीएसआईडी जारी करने वाला पहला देश भारत

06/09/2019

बीएसआईडी जारी करने वाला पहला देश भारत

युगवार्ता डेस्क

नाविकों के फेशियल बायोमैट्रिक डेटा का संग्रह कर बायोमैट्रिक नाविक पहचान दस्तावेज (बीएसआईडी) जारी करने वाला भारत विश्व का पहला देश बन गया है। पांच भारतीय नाविकों को नए बीएसआईडी कार्ड सौंप कर इसकी शुरुआत हुई। नई फेशियल बायोमैट्रिक तकनीक दो अंगुली या आंख की पुतली आधारित बायोमैट्रिक डेटा से बेहतर है। मजबूत सुरक्षा उपायों के साथ एसआईडी कार्ड प्राप्त नाविक की पहचान अधिक विश्वसनीय होगी। इससे नाविक की गरीमा एवं निजता की सुरक्षा का प्रबंध है। वर्तमान में तटीय पोत परिवहन अंतर-देशीय जलमार्ग और अन्य समुद्री गतिविधियों में तेजी से वृद्धि के चलते इस क्षेत्र में रोजगार के अवसरों का सृजन हुआ है।
नया पहचान पत्र बीएसआईडी पर अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन के समझौता संख्या-185 के अनुरूप है। जारी हुए प्रत्येक एसआईडी कार्ड से संबंधित जानकारी राष्ट्रीय डेटाबेस में संग्रह की जाएंगी और इससे संबंधित जानकारी दुनिया के किसे भी कोने से प्राप्त की जा सकती है। भारत में बीएसआईडी परियोजना सी-डैक मुम्बई के सहयोग से चलाई जा रही है। बीएसआईडी कार्ड जारी करने के लिए मुम्बई, कोलकाता, चेन्नई, नोएडा, गोवा, मंगलौर, कोच्चि, विशाखापत्तन और कांडला में 9 डेटा संग्रह केन्द्र बनाए गए है। इस समय 3,50,000 भारतीय नाविकों को बीएसआईडी कार्ड जारी करने की आवश्यकता होगी। वर्तमान के सभी नाविकों को दो वर्षों के अंदर बीएसआईडी कार्ड जारी किए जाएंगे। इसके बाद प्रत्येक वर्ष 15,000 नए नाविकों को बीएसआईडी कार्ड जारी होंगे।


 
Top