व्यापार

Blog single photo

सऊदी अरामको और आरआईएल के बीच सबसे बड़ी डील, अरामको करेगी 75 अरब डॉलर का निवेश

12/08/2019

प्रजेश शंकर 
नई दिल्ली/मुंबई, 12 अगस्त (हि.स.)। रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने देश में सबसे बड़े विदेशी निवेश मिलने का ऐलान सोमवार को किया। आरआईएल प्रमुख ने यह ऐलान रिलायंस इंडस्ट्रीज की 42वीं सालाना आम बैठक में किया। उन्होंने बताया कि सऊदी अरब की अरामको कंपनी, आरआईएल  के ओसीटू (ऑयल टु केमिकल) में 20 फीसदी की हिस्सेदारी (एस्टेक) खरीदेगी, जिसकी अनुमानित वैल्यू  75 अरब डॉलर है। 
रिलायंस की सालाना आम बैठक में बोलते हुए मुकेश अंबानी ने कहा कि देश की मौजूदा अर्थव्यवस्था साल 2030 तक 10 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर की हो जाएगी। उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था में जो मंदी की आशंका अस्थायी है, जो जल्द ही दूर हो जाएगी। सऊदी ऑयल कंपनी अरामको के साथ किए गए समझौते के तहत रिलायंस इंडस्ट्रीज ऑयल टु केमिकल बिजनेस में 20 फीसदी की हिस्सेदारी अरामको खरीदेगी। 
उल्लेखनीय है कि ऑयल टु केमिकल डिविजन में रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल्स कारोबार आते हैं। रिलायंस कंपनी को इस करोबार में साल 2019 में करीब 5.7 लाख करोड़ रुपये की आमदनी हुई थी। दोनों के  बीच हुए समझौते के अनुसार अरामको रिलायंस के जामनगर रिफाइनरी को रोज पांच लाख बैरल क्रूड (कच्चे तेल) की आपूर्ति करेगी। सऊदी की अरामको दुनिया की सबसे बड़ी रिफाइनरी  है। साथ ही यह कंपनी सऊदी अरब की नेशनल पेट्रोलियम एंड गैस कंपनी है, जो आमदनी के लिहाज   से भी दुनिया सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है। 
हिन्दुस्थान समाचार


 
Top