अपराध

Blog single photo

एसआइटी दरोगा हत्या कांड में 17 लोगों की संलिप्तता आई सामने : एसपी

07/09/2019

-बरामद व जब्त हथियारों को फोरेंसिक जांच के लिए भेजा जायेगा विधि विज्ञान प्रयोगशाला 
 - जेल में बंद सूरज को रिमांड पर लेगी पुलिस
गुड्डू 
 छपरा, 07 सितंबर (हि.स.) । एसआइटी के दरोगा मिथिलेश कुमार साह तथा सिपाही मोहम्मद फारूक की हत्या के मामले में पुलिस ने अब तक 17 लोगों को चिन्हित  किया  है और अन्य लोगों को चिन्हित करने का कार्य चल रहा है। पुलिस अधीक्षक हर किशोर राय ने शुक्रवार की शाम  बताया कि इस मामले में बरामद व जब्त किए गए हथियारों को फॉरेंसिक जांच के लिए विधि विज्ञान प्रयोगशाला में भेजने की प्रक्रिया चल रही है । उन्होंने बताया कि इस मामले में गिरफ्तार  सीवान के अपराधी सूरज को रिमांड पर लेकर पूछताछ की जाएगी। एसपी के अनुसार घटना के दौरान एसआइटी  से लूटी गई दो राइफल व एक पिस्टल बरामद की गई है। इसके अलावा हत्या में प्रयुक्त जिला परिषद अध्यक्ष मीना अरुण की पिस्टल को घटनास्थल से जब्त किया गया था। उन्होंने बताया कि सिपाही व दरोगा के पोस्टमार्टम के दौरान शरीर में पायी  गयी  गोली समेत अन्य सामान फॉरेंसिक जांच के लिए विधि विज्ञान प्रयोगशाला भेजा जायेगा। इस मामले में सात नामजद आरोपितों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज है जिसमें जिला परिषद अध्यक्ष तथा अध्यक्ष के पति अरुण कुमार सिंह और भतीजा सुबोध कुमार सिंह शामिल है । जिला परिषद अध्यक्ष मीणा अरुण छपरा जेल में बंद हैं  और उनके पति अरुण कुमार सिंह पहले से ही उत्तर प्रदेश के बलिया जेल में बंद हैं । इस मामले में नामजद अभिषेक कुमार सिंह ने कोर्ट में आत्म समर्पण कर दिया। इसके अलावा चार अन्य को गिरफ्तार कर पुलिस ने जेल भेज दिया है। पुनः सीवान पुलिस ने सूरज कुमार नामक अपराधी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया । नामजद किये गये चार आरोपितों  समेत 9 लोगों को पुलिस ढूंढ रही है ।

हिन्दुस्थान समाचार  






 
Top