युगवार्ता

Blog single photo

टी-20 विश्वकप की ठोंकी ताल

02/01/2020

टी-20 विश्वकप की ठोंकी ताल

एम एस

हाल ही में भारत और वेस्टइंडीज के बीच खेली गई तीन मैचों की टी-20 सीरीज में यद्यपि भारत ने शानदार जीत दर्ज कर ली है, लेकिन वेस्टइंडीज भी जीतने के लिए जी-जान से खेला।

भारत और वेस्टइंडीज के मध्य खेली गई तीन मैचों की हालिया टी-20 सीरीज के आरंभिक दो मैचों में दोनों टीमें 1-1 से बराबरी पर रहीं। तब कयास लगाए गए कि कीरोन पोलार्ड की कप्तानी में वेस्टइंडीज टीम शायद भारतीय सरजमीन पर टी-20 सीरीज में जीत दर्ज कर ले। साथ ही यह भी उम्मीद जताई जा रही थी कि क्रिकेट के सभी फॉर्मेट में एक के बाद एक, सात सीरीज से मिल रही पराजय की जकड़न को वेस्टइंडीज तोड़ने में कामियाब रहेगा। पर टीम इंडिया ने न केवल वेस्टइंडीज के इन तमाम मंसूबों पर पानी फेर दिया, बल्कि सीरीज का फाइनल मैच पूरे धूम-धड़ाके के साथ जीत लिया। मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए तीसरे टी-20 मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए टीम इंडिया ने महज तीन विकेट खोकर 240 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया।
भारत की तरफ से तीन बल्लेबाजों ने हॉफ सेंचुरी जड़ी। इसमें सलामी बल्लेबाज के तौर पर रोहित शर्मा के 34 गेंदों पर पांच छक्कों और छह चौकों की मदद से 71 रन और केएल राहुल की 56 गेंदों पर चार छक्कों और नौ चौकों की मदद से 91 रनों की आतिशी पारियां शामिल हैं। अलबत्ता रनों की असल आतिशबाजी तो कप्तान विराट ने की जो महज 29 गेंदों में सात छक्के और चार चौके जड़कर 70 रन पर नाबाद रहे। वेस्टइंडीज की तरफ से शेल्डन कोटरेल, केसरिक विलियम्स और कीरोन पोलार्ड ने एक-एक विकेट लिए। 241 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी वेस्टइंडीज की टीम निर्धारित 20 ओवर की चार गेंदें शेष रहते 173 रन पर आॅल आउट हो गई। उसकी तरफ से कीरोन पोलार्ड (68 रन) के अलावा दूसरा बल्लेबाज कोई विशेष चुनौती नहीं पेश कर सका।
भारत की तरफ से दीपक चहर, भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद शमी और कुलदीप यादव ने दो-दो विकेट लिए। इस तरह भारत ने यह निर्णायक मैच 67 रनों से जीत लिया। गौरतलब है कि सीरीज के पहले मैच में भारत ने वेस्टइंडीज को छह विकेट से मात देकर 1-0 की बढ़त ले ली थी लेकिन अगले ही मैच में वेस्टइंडीज ने भारत को 8 विकेट से शिकस्त देकर हिसाब बराबर कर लिया था। अलबत्ता तीसरे और आखिरी मैच में टीम इंडिया ने वेस्टइंडीज को खेल के हर क्षेत्र में मात दे दी। आंकड़ों पर गौर करें, तो टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में वेस्टइंडीज पर भारत का पलड़ा भारी रहा है। दोनों के दरमियान अब तक खेले गए 17 टी-20 मैचों में से भारत ने 10 में जीत दर्ज की है जबकि इसके बरक्स वेस्टइंडीज केवल 6 में कामियाबी हासिल कर सका है।
एक मैच बेनतीजा रहा है। हालांकि टी-20 विश्वकप की दो बार विजेता वेस्टइंडीज की टीम को कमजोर करके नहीं आंका जा सकता है। इस नाते भारत की यह विजय काफी मायने रखती है। टी-20 मैचों में यह वेस्टइंडीज की 61वीं हार है। अब श्रीलंका के साथ वेस्टइंडीज संयुक्त रूप से सबसे ज्यादा टी-20 मैच हारने वाली टीम बन गई है। इनके बाद बांग्लादेश (60), न्यूजीलैण्ड (56) और पाकिस्तान (55) का नंबर है। अमूमन टीम इंडिया लक्ष्य का पीछा करने के मामले में अत्याधिक सफल मानी जाती रही है, लेकिन मुंबई में खेले गए तीसरे टी-20 मैच की खास बात यह रही कि इसमें पहले बल्लेबाजी करते हुए टीम इंडिया बड़ा स्कोर खड़ा करने में कामियाब रही। टी-20 इंटरनेशनल मैचों में 240 रनों का यह भारत का तीसरा सर्वाधिक स्कोर है।
उसकी तरफ से तीन बल्लेबाजों ने 70 से अधिक रन स्कोर किए। इस तरह टीम इंडिया ने टी-20 विश्वकप 2020 के लिए अपनी तैयारियों की बानगी पेश कर दी है। टीम से इतर अगर खिलाड़ियों की बात की जाए तो इस सीरीज के दौरान कई व्यक्तिगत कीर्तिमान स्थापित हुए। सीरीज के खात्मे के साथ ही अंतरराष्ट्रीय टी-20 मैचों में रोहित शर्मा और विराट कोहली 2,633 रनों के साथ संयुक्त रूप से सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी बन गए हैं। इंटरनेशल मैचों में रोहित शर्मा 400 से अधिक छक्के जड़ने वालों के एलीट क्लब में शामिल हो गए हैं। क्रिस गेल (534 छक्कों) और शाहिद अफरीदी (476 छक्कों) के बाद 404 छक्के के साथ रोहित तीसरे नंबर पर हैं।


 
Top