राष्ट्रीय

Blog single photo

पंजाब : हरिमंदर साहिब में नतमस्तक हुए आर्चबिशप, जलियांवाला बाग नरसंहार के लिए मांगी माफी

10/09/2019

-सौ साल पहले हुए नरसंहार के लिए उन्हें शर्म और खेद है : आर्चबिशप

संजीव शर्मा
चंडीगढ़,10 सितम्बर (हि.स.)। कैंटरबरी के आर्चबिशप जस्टिन वेलबी ने मंगलवार को अमृतसर में जलियां वाला बाग स्मारक की यात्रा से अपने भारत दौरे का समापन किया। इस दौरान वह हरिमंदर साहिब में नतमस्तक हुए और उन्होंने जलिया वाला बाग नरसंहार के लिये माफी मांगी।

आर्चबिशप ने कहा कि सौ साल पहले हुए यहां किए गए नरसंहार के लिए उन्हें शर्म और खेद है। मैं यहां किए गए इस अपराध के लिए बहुत शर्मिंदा हूं और खेद व्यक्त करता हूं। मैं सरकार को नहीं बोल सकता जो सरकार को करना है। मैं एक धर्मगुरु हूं, राजनीतिज्ञ नहीं। उन्होंने अधिनियम के लिए भगवान से क्षमा मांगने के लिए एक प्रार्थना भी पढ़ी। उन्होंने विजिटर बुक में लिखा है कि इस जगह का दौरा करने के लिए गहरी शर्मिंदगी और भावनाओं को भड़काने की घटना है जो सौ साल पहले ऐसे अत्याचार की गवाह थी। 

यह पूछे जाने पर कि क्या वह ब्रिटिश सरकार से नरसंहार के लिए माफी मांगने के लिए कहेंगे। उन्होंने कहा, मुझे लगता है कि मुझे जो महसूस हो रहा है, वह बहुत स्पष्ट है और जो इंग्लैंड में प्रसारित किया जाएगा। भारत में अपने अनुभव के बारे में वेलबी ने कहा, यह एक तीर्थयात्रा रही है। यह प्रार्थना के लिए किया गया है। यह मेरे लिए गहन सीख और विशेषाधिकार का सबक रहा है जिसे मैं कभी नहीं भूलूंगा।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top