युगवार्ता

Blog single photo

टीबी उपचार- नई एंटी-ट्यूबरकुलोसिस दवा

30/08/2019

टीबी उपचार- नई एंटी-ट्यूबरकुलोसिस दवा

 युगवार्ता डेस्क

हाल ही में अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने एंटी-ट्यूबरकुलोसिस ड्रग प्रीटोमेनीड को अनुमोदित किया है। यह दवा भविष्य में बड़े पैमाने पर दवा प्रतिरोधी टीबी (एक्सडीआर-टीबी) वाले लोगों के इलाज के लिए एक गेम चेंजर साबित होगी। एफडीए से अनुमोदन प्राप्त करने वाली पिछले 40 वर्षों में प्रीटोमेनीड तीसरी दवा है। दक्षिण-अफ्रीका में परीक्षण के तीसरे चरण में 109 प्रतिभागियों को शामिल किया गया। इसकी सफलता दर 90 फीसदी थी।
इसके विपरीत, एक्सडीआर-टीबी और एमडीआरटीबी के लिए वर्तमान उपचार की सफलता दर क्रमश: 34 और 55 फीसदी ही है। 14 देशों में 19 क्लीनिकल परीक्षणों में 1,168 रोगियों में सुरक्षा और प्रभावकारिता का परीक्षण किया गया। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, 2017 में, एमडीआर-टीबी के दुनिया भर में अनुमानित 4.5 लाख लोग थे, जिनमें से भारत में 24 फीसदी थे और लगभग 37,500 लोग एक्सडीआर-टीबी के मरीज थे। उच्च प्रतिरोधी टीबी का इलाज करने के लिए लगभग 20 दवाओं का 18- 24 महीनों तक उपयोग किया जाता है जबकि इसके विपरीत अब केवल छह महीने ही इलाज करना होगा। यानी नई दवा प्रभावी और बेहतर है। यह बैक्टीरिया को नष्ट करने में अधिक शक्तिशाली साबित होगी।


 
Top