युगवार्ता

Blog single photo

विराट के 11 साल बेमिसाल

22/08/2019

विराट के 11 साल बेमिसाल

ओम प्रकाश

समूचे विश्व में क्रिकेट जगत में रिकॉर्डों के नए बादशाह विराट कोहली हैं। एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट हो या टेस्ट क्रिकेट या टी-20 इंटरनेशनल मैच, हर फॉर्मेट में अब उनका मुकाबला खुद से होता है।

भारतीय क्रिकेटर विराट कोहली एक ऐसा नाम जिनके द्वारा हर सीरीज और हर इनिंग में एक नया रिकॉर्ड टूटता और बनता है। तभी तो घरेलू क्रिकेट के दिग्गज बल्लेबाज वसीम जाफर ने कहा है कि विराट कोहली वनडे में 75 से 80 शतक बना सकते हैं। विराट के मौजूदा फॉर्म और उम्र को देखते हुए यह सच हो सकता है। 30 वर्षीय कोहली के पास अभी वनडे खेलने के लिए कम से कम 7 साल का समय है। 18 अगस्त को कोहली को वनडे में डेब्यू किए हुए 11 साल हो गया। विराट ने 18 अगस्त 2008 को दांबुला में श्रीलंका के खिलाफ डेब्यू किया था। डेब्यू मैच में कोहली हालांकि बड़ा स्कोर नहीं बना सके और केवल 22 बॉल में 12 रन बनाकर आउट हो गए।
लेकिन विराट आखिर विराट हैं। एक बार जो डेब्यू कर दिया तो फिर कभी पीछे मड़कर नहीं देखा। विराट कोहली वनडे में सबसे ज्यादा शतक 43 लगाने वाले विश्व के दूसरे बल्लेबाज हैं। विराट से ज्यादा शतक सिर्फ सचिन तेंदुलकर ने 49 लगाए हैं। कोहली ने यह कारनामा करने के लिए 239 मैच की 230 इनिंग खेली। 60.31 के औसत से 11520 रन बनाए हैं। इसमें 43 शतक और 54 अर्धशतक शामिल हैं। वनडे में विराट का सर्वोच्च स्कोर 183 रन है। स्ट्राइक रेट 93.21 है। इसके अलावा वनडे में किसी भी टीम के खिलाफ विराट कोहली 9 शतक लगाने वाले दुनिया के दूसरे खिलाड़ी हैं। इससे पहले सचिन तेंदुलकर ने आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ 9 शतक लगाए हैं। वहीं विराट ने अब तक वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे मैचों में 9 शतक जड़ चुके हैं। कप्तानी करते हुए शतक बनाने के मामले में आॅस्ट्रेलिया के रिकी पॉन्टिंग की 22 सेंचुरी के बाद कोहली का नंबर है, जिन्होंने 21 शतक बनाए हैं।
विराट वेस्टइंडीज के खिलाफ उसी की सरजमीं पर लगातार तीन शतक लगाने वाले पहले क्रिकेटर हैं। विराट कोहली को वेस्टइंडीज की बॉलिंग कितनी रास आती है। इसका अंदाजा कैरेबियन टीम के खिलाफ उनकी 9 वनडे पारियों को देखकर लगाया जा सकता है। उन्होंने 9 इनिंग में 111, 140, 157, 107, 16,33, 72, 120, और 114 रनों की पारियां खेली हैं। विराट कोहली का टेस्ट करियर भी कम शानदार नहीं है। कोहली ने किंग्सटन में वेस्टइंडीज के खिलाफ 20-23 जून 2011 को डेब्यू किया था। उन्होंने 77 टेस्ट मैचों 131 पारियों में 53.76 के औसत से 6613 रन बनाए हैं। जिनमें उनके 25 शतक और 20 अर्धशतक शामिल हैं। टेस्ट क्रिकेट में उनका सर्वोच्च स्कोर 243 रन है। वहीं अगर उनके टी-20 इंटरनेशनल करियर पर नजर डाली जाए तो विराट ने 70 टी-20 मैचों की 65 पारियों में 49.35 के औसत से 2369 रन बनाए हैं। इसमें 21 अर्धशतक भी शामिल हैं।
इसके अलावा भी कई अन्य रिकॉर्ड विराट के नाम हैं। क्रिकेट के सभी प्रारूपों में एक कप्तान के रूप में कोहली ने सबसे कम पारियों में सबसे तेज 10 हजार रन पूरे किए हैं। एक कप्तान के रूप में रिकी पॉन्टिंग 15440 रन 376 पारी, ग्रीम स्मिथ 14878 रन 368 पारी, स्टीफन लेमिंग 11561 रन 348 पारी, महेंद्र सिंह धोनी 11207 रन 330 पारी, एलन बॉर्डर 11062 रन 319 पारी और विराट कोहली 10000 रन 176 पारियों में बनाए हैं। उपरोक्त आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो विराट कोहली क्रिकेट जगत में रिकॉर्डों के नए बादशाह बन चुके हैं। लेकिन इन सबके बीच कोहली का बड़े मैचों के फाइनल या सेमीफाइन में (विश्व कप, चैंपियंस ट्रॉफी) प्रदर्शन काफी कमजोर रहा है। जिस पर उन्हें ध्यान देने की जरूरत है। आशा है कि भविष्य की बड़ी प्रतियोगिताओं के फाइनल में भी कोहली शानदार परफॉर्मेंस के जरिए जरूर कमाल करेंगे।


 
Top