युगवार्ता

Blog single photo

उम्रकैद की दहलीज पर बाहुबली अनंत

28/08/2019

उम्रकैद की दहलीज पर बाहुबली अनंत

 चंदा सिंह

मोकामा के निर्दलीय विधायक अनंत सिंह के खिलाफ यूएपीए में केस दर्ज होने के बाद से वे छिपते घूम रहे थे। आखिरकार अनंत सिंह ने राजधानी दिल्ली के साकेत कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया। उन पर एके 47 राइफल और ग्रेनेड जैसे हथियारों को अवैध रूप से रखने का आरोप लगा है। माना जा रहा है कि जबलपुर आॅर्डिनेंस फैक्ट्री से चोरी हुए हथियारों से इनका कनेक्शन हो सकता है।

बाहुबली और छोटे सरकार के नाम से प्रसिद्ध मोकामा के निर्दलीय विधायक अनंत सिंह जो पुलिस से छिपते फिर रहे थे, अब दिल्ली स्थित साकेत कोर्ट में आत्मसमर्पण कर चुके हैं। संज्ञेय अपराध की धाराओं के सहारे पुलिस उन्हें उम्रकैद की दहलीज तक पहुंचाने में जुटी है। पुलिस अनंत को जेल भेजकर अगली रणनीति पर काम करने की योजना में है। ऐसा माना जा रहा है कि उन्हें झारखंड के किसी विधायक ने पनाह दे रखी थी। कुख्यात भोला सिंह और उसके भाई मुकेश सिंह की हत्या की साजिश रचने के विधायक के आॅडियो के जरिये पुलिस एके 47 तक पहुंच गयी। आॅडियो में इन दोनों की हत्या के लिए ही एके 47 मंगाये जाने की बातचीत रिकार्ड है।
आॅडियो में हत्या की योजना में अनंत सिंह की आवाज की चर्चा आम हो गयी थी। फारेंसिक जांच के लिए अनंत सिंह की आवाज का नमूना लिया गया। इस बीच पुलिस के रेड पर बाहुबली के पैतृक आवास से प्रतिबंधित व आधुनिक हथियार एके 47 और हैंड ग्रनेड बरामद हुए। इसके बाद से ही अनंत कानून के शिकंजे में आ गये। उनके खिलाफ पुलिस ने गिऱμतारी वारंट जारी किया था।
रातों-रात पुलिस विधायक के पटना स्थित सरकारी आवास पर पहुंची, लेकिन अनंत फरार हो गये। अनंत के करीबी बताये जाने वाले लल्लू मुखिया के घर पुलिस कुर्की जब्ती भी कर चुकी है। पटना सिटी स्थित उनके संबंधी तथा उनके अन्य सहयोगियों के घर पुलिस छापेमारी कर रही है। लल्लू यादव अनंत करीबी है। उसके भाई रणवीर यादव के साथ उन 14 गुर्गों को जेल भेज दिया गया जिन्होंने रणवीर को बीच रास्ते में पुलिस से छुड़ाने की कोशिश की थी। पुलिस अनंत सिंह को सलाखों के पीछे भेजने के लगातार प्रयास में लगी थी। सीनियर क्रिमिनल लॉयर अरविंद मउवार बताते है कि किसी विधायक पर गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम कानून (यूएपीए) के तहत मामला दर्ज होने के बाद उसे सजा होगी, तो उसकी विधायकी जा सकती है।

जबलपुर आॅर्डिनेंस फैक्ट्री से जुड़ रहे तार
मोकामा विधायक अनंत सिंह के बाढ़ अनुमंडल पैत्रृक आवास लदमा से मिले एके 47, कारतूस और ग्रेनेड के तार जबलपुर आॅर्डिनेंस फैक्ट्री से जुड़ने लगे है। बरामद एके 47 असेंबल की हुई है। इसलिए अनुमान लगाया जा रहा है कि राइफल कुछ साल पहले जबलपुर आॅर्डिनेंस फैक्ट्री से चोरी हुई एके 47 में से एक है। इसके तीन पार्टस पर अलग-अलग नम्बर मिले और कुछ पार्टस खुले हुए है। इस पर अंकित नम्बर के मिलान के बाद पता चलेगा कि बरामद एके 47 यहां की है कि नहीं। इसकी जांच के लिए आर्मी इंटेलिजेंस और सुरक्षा एजेंसियां जबलपुर स्थित आॅर्डिनेंस फैक्ट्री और मुंगेर जायेगी। इस फैक्ट्री से 60 से ज्यादा एके 47 कुछ साल पहले चोरी हुई थी। इस बात की जानकारी न तो फैक्ट्री को लगी और न ही सुरक्षा एजेंसियों को। इस रैकेट से जुड़े लोग आॅर्डिनेंस फैक्ट्री से एके 47 के पार्टस की चोरी कर उसे असेंबल करते थे। फिर बिहार और झारखंड के अपराधियों और नक्सलियों को सप्लाई करते थे।

दोष साबित हो जाने पर इस एक्ट के तहत सात साल तक की सजा हो सकती है। ऐसा हुआ तो वर्ष 2020 में होने वाले बिहार विधानसभा में उतरना उनके लिए मुश्किल होगा। हालात बताते है कि अनंत सिंह पर यूएपीए में केस दर्ज होने के बाद उन्हें आतंकी घोषित किया जा सकता है। उनके आतंकी कनेक्शन की एक तस्वीर वायरल हो रही है। तस्वीर में उनके साथ आईएसआई एजेंट परवेज चांद है। जिसमें अनंत उसके साथ बैठे हुए हैं। यह तस्वीर लोकसभा चुनाव के समय की बतायी जा रही है। परवेज को भी मुंगेर में मिले एके 47 मामले में गिऱμतार किया गया था। वहीं विधायक के घर से बरामद हुई एके 47 और हैंड ग्रेनेड के तार सेना से जोड़े जा रहे हैं। ऐसे में सवाल यह है कि सेना के हथियार अनंत के घर कैसे पहुंचे?


 
Top