युगवार्ता

Blog single photo

जोफ्रा आर्चर इतना खतरनाक

30/08/2019

जोफ्रा आर्चर इतना खतरनाक

ओम प्रकाश

इंग्लैंड के फास्ट बॉलर जोफ्रा आर्चर की घातक गेंदबाजी क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में कहर बरपा रही है। इसलिए क्रिकेट जगत के पूर्व दिग्गज भी जोफ्रा के मुरीद हो चुके हैं।

इंग्लैंड के फास्ट बॉलर जोफ्रा आर्चर अपनी तूफानी बॉलिंग के चलते इन दिनों सुर्खियों में बने हुए हैं। हाल ही में एशेज सीरीज के तहत लॉर्ड्स पर खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में जोफ्रा की गेंद पर आॅस्ट्रेलियाई बल्लेबाज स्टीव स्मिथ घायल हो गए। जोफ्रा की जिस बाउंसर पर स्टीव स्मिथ को चोट लगी उसकी रμतार 148 किमी प्रतिघंटा की थी। बीते दशक में अगर देखा जाए तो पाकिस्तान के शोएब अख्तर, आॅस्ट्रेलिया के ब्रेट ली और साउथ अफ्रीका के डेल स्टेन के बाद जोफ्रा चौथे ऐसे बॉलर हैं जो लगातार 150 या उसके आसपास की गति से बॉलिंग करने का दमखम रखते हैं। यही कारण है कि उनकी तेज गेंदों के आगे बल्लेबाज असहाय नजर आते हैं।
इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स टेस्ट में जिस समय स्टीव स्मिथ 80 रनों पर बैटिंग कर रहे थे उसी समय जोफ्रा की बाउंसर स्मिथ के सिर और गर्दन वाले भाग पर जा लगी। और स्मिथ जमीन पर गिर गए। उन्हें मैदान से बाहर जाना पड़ा हालांकि कुछ समय बाद बल्लेबाजी करने लौटे। चोट की गंभीरता को देखते हुए स्मिथ को तीसरे टेस्ट में आॅस्ट्रेलियाई टीम में शामिल नहीं किया गया। जोफ्रा आर्चर को इंटरनेशनल क्रिकेट में आगाज किए अभी बहुत ज्यादा वक्त नहीं हुए हैं। उन्होंने महज 3 महीने और 11 दिन में क्रिकेट के हर फॉर्मेट में इंग्लैंड के लिए खेलना शुरू कर दिया। जो कि बहुत कम क्रिकेटर्स को नसीब होता है।
जोफ्रा ने 3 मई 2019 को आयरलैंड के खिलाफ डबलिन में वनडे करियर की शुरुआत की। उसके दो दिन बाद जोफ्रा ने 5 मई 2019 को पाकिस्तान के खिलाफ कार्डिफ में टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया। वहीं 14 अगस्त 2019 को होम आॅफ क्रिकेट के नाम से मशहूर लॉर्ड्स पर आॅस्ट्रेलिया के विरुद्ध उनके टेस्ट करियर का आगाज हुआ। असाधारण प्रतिभा के धनी जोफ्रा आर्चर का जन्म 1 अप्रैल 1995 को ब्रिजटाउन बारबाडोस में हुआ। उन्होंने अंडर 19 क्रिकेट में बारबाडोस का प्रतिनिधित्व भी किया। जोफ्रा जब 18 वर्ष के थे तो वह साल 2015 में इंग्लैंड आ गए और इंग्लिश काउंटी ससेक्स के लिए खेलना शुरू कर दिया।
इसी दौरान कई दिग्गज क्रिकेटर्स की उन पर नजर पड़ी। साल 2017 में साउथ अफ्रीका के फास्ट बॉलर डेल स्टेन ने उन्हें देखकर भविष्यवाणी की थी कि जोफ्रा आने वाले समय में स्पेशल बॉलर बनेंगे। जोफ्रा की हसरत इंग्लैंड की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम में खेलने की थी लेकिन ब्रिटिश नागरिकता के नियम आड़े आ रहे थे। दरअसल इंग्लैंड में नियम ये है कि वहां की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम में यदि कोई दूसरे देश का खिलाड़ी खेलना चाहता है तो उसे कम से कम सात साल तक इंग्लैंड में रहना होगा। अगर जोफ्रा के मामले में इस नियम का पालन किया जाता तो उन्हें साल 2022 तक इंग्लिश टीम में जगह मिल पाती। लेकिन क्रिकेट के प्रति उनके जुनून और समर्पण को देखते हुए इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड ने जोफ्रा आर्चर को टीम में शामिल करने के लिए खिलाड़ियों के लिए बनाए गए सात साल के नियम को तोड़ कर तीन साल कर दिया। फिर क्या था जोफ्रा को इंग्लैंड की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम में जगह मिल गई।
जोफ्रा आर्चर ने इंग्लैंड को क्रिकेट विश्व कप 2019 का फाइनल जिताने में अहम भूमिका निभाई। 14 जुलाई को जब इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच लॉर्ड्स पर खेला गया वर्ल्ड कप फाइनल टाई हुआ तो सुपर ओवर जोफ्रा आर्चर ने ही फेंका। जोफ्रा ने पूरे वर्ल्ड कप के दौरान इंग्लैंड के लिए बेहतरीन प्रदर्शन किया। वह विश्व कप में इंग्लैंड के सबसे सफल बॉलर रहे और 20 विकेट लिए।
विश्व कप 2019 में सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजों में जोफ्रा तीसरे नंबर पर रहे। आर्टिकल लिखे जाने तक जोफ्रा लीड्स में एशेज सीरीज के तीसरे टेस्ट मैच के पहले दिन आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ घातक गेंदबाजी करते हुए 6 विकेट झटके और कंगारू टीम को पहली पारी को 179 रनों पर समेटने में अहम भूमिका निभाई। मौजूदा समय में जोफ्रा जिस तरह से बॉलिंग कर रहे हैं उसे देखकर यही कहा जा रहा है कि आने वाले समय में उनके बाउंसर से बचना बल्लेबाजों के लिए चुनौती होगी।


 
Top