अंतरराष्ट्रीय

Blog single photo

इजराइल में बनेगी बेनी गैंट्ज की सरकार

16/03/2020

यरूसलम, 16 मार्च (हि.स.)। इजराइल के राष्ट्रपति ने रविवार को कहा कि विपक्षी नेता बेनी गैंट्ज को एक नई सरकार बनाने के लिए कहा जाएगा। यह प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के लिए एक बड़ा झटका है। लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि गैंट्ज की ब्लू एंड व्हाइट पार्टी इस राजनीतिक गतिरोध को तोड़ सकती है, जिसके कारण एक वर्ष से कम समय में तीन अनिर्णायक चुनाव कराये जा चुके हैं।

रविवार को गैंट्ज ने दो प्रमुख दलों से समर्थन प्राप्त कियाजिसके कारण राष्ट्रपति रेवेन रिवलिन ने कहा कि 2 मार्च को हुए चुनाव के बाद उन्हें सरकार बनाने का पहला मौका मिलेगा।

रिवलिन के कार्यालय ने एक बयान में कहा, "कलदोपहर के आसपास राष्ट्रपति बेनी गैंट्ज़ (ब्लू एंड व्हाइट पार्टी) को सरकार के गठन का काम सौंपेंगे।" इस घोषणा से पहले रिवलिन ने 120 सीटों वाली इजराइली संसद नेसेट के सभी सदस्यों के साथ एक दिन में विचार-विमर्श किया था।

बयान में कहा गया है कि नेसेट के 61 सदस्यों ने बेनी गैंट्ज की सिफारिश की थी जबकि 58 सदस्यों ने वर्तमान प्रधानमंत्री और लिकुड पार्टी के प्रमुख बेंजामिन नेतन्याहू की सिफारिश की थी। बयान में कहा गया है कि संसद के एक सदस्य ने कोई सिफारिश नहीं की।

गैंट्ज को एक ऐसे गठबंधन का नेतृत्व करना है, जिसमें दो कट्टर विरोधियों ने उनको समर्थन दिया है। इसमें इजराइल के 21% अरब अल्पसंख्यकों का प्रतिनिधित्व करने वाले सांसदों का एक गठबंधन हैऔर दूसरा पूर्व रक्षा मंत्री एविग्डोर लीबरमैन की यिसरेल बेइटिनु पार्टी है।

इससे पहने नेतन्याहू ने कोरोनोवायरस संकट का सामना करने के लिए अपने नेतृत्व में छह महीने की "राष्ट्रीय आपातकालीन" सरकार का प्रस्ताव दिया था। राष्ट्रपति रिवलिन ने गतिरोध तोड़ने के लिए एक एकता सरकार के समर्थन का समर्थन किया। लेकिन चुनाव अभियानों के दौरान नेतन्याहू के चरित्र को मुद्दा बनाने वाले गेंट्ज ने अपने प्रतिद्वंद्वी के साथ मिलकर काम करने के बारे में  ठंडा रूख दिखाया है।

नेतन्याहू अभूतपूर्व राजनीतिक गतिरोध और भ्रष्टाचार के लिए आपराधिक अभियोग के बीच अपने राजनीतिक जीवन को बचाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। नेतन्याहू इजरायल के सबसे लंबे समय तक प्रधानमंत्री रहे हैं और कोरोनोवायरस का मुकाबला करने के लिए देश के प्रयासों का नेतृत्व कर रहे हैं। पिछले साल उन्होंने दो बार एक सत्तारूढ़ गठबंधन को एकजुट करने की असफल कोशिशें की है।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top