क्षेत्रीय

Blog single photo

अमर सिंह ने डेढ़ वर्ष पहले दान की थी सेवा भारती को अपनी पैतृक जमीन

01/08/2020

राजीव

आजमगढ़, 01 अगस्त (हि.स. )। उत्तर प्रदेश की राजनीति के चाणक्य कहेे जाने वाले राज्यसभा सांसद अमर सिंह का शनिवार को लम्बी बीमारी के बाद निधन हो गया। उनके निधन से राजनीतिक गलियारें में शोक की लहर है। उनके निधन की खबर सुनकर उनके पैतृक गांव के साथ पूरे जिले में शोक की लहर दौड़ पड़ी है। अमर सिंह का आजमगढ़ जिले से गहरा नाता रहा है। करीब डेढ़ साल पहले ही उन्होंने अपनी पैतृक जमीन को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के अनुषांगिक संगठन राष्टीय सेवा भारती को दान भी किया था। 


राज्यसभा सासंद अमर सिंह भले ही इस दुनिया को छोड़कर चले गये हो लेकिन उनकी अमिट छाप उनके पैतृक जिले आजमगढ़ में उनके राजनीतिक और सामाजिक कार्यों के लिए याद किया जाता रहेगा। मूल रूप से लालगंज तहसील के तरंवा गांव के अमर सिंह निवासी थे। समाजवादी पार्टी में रहते हुए जिले में कई विकास कार्यों को जिले के लोगों को समर्पित किया था। 


सामाजिक कार्यों के क्षेत्र में सांसद अमर सिंह ने 20 फरवरी 2019 को अपने पैतृक गांव तरवां स्थित लगभग 12 करोड़ रुपये के मकान व जमीन को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के अनुषांगिक संगठन राष्ट्रीय सेवा भारती को उस समय राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के राष्ट्रीय संगठन मंत्री ऋषिपाल सिंह ददवाल की मौजूदगी में दान की थी। आज उनके इस भवन पर सेवा भारतीय ने उनके पिता के नाम ठाकुर हरिश्चंद्र सेवा केन्द्र की स्थापना की है। 


हालांकि अपनी पैतृक जमिन को दान देने के बाद सासंद अमर सिंह ने दान देने की बात को खारिज करते हुए इसे समर्पण कहते हुए कहा था कि ‘मैं सेवा भारती को धन्यवाद दूंगा, क्योंकि सेवा भारती ने मेरे समर्पण के भावना को स्वीकार किया। मुझे अपने माता-पिता के नाम को अनंतकाल तक अमर रखने का मौका मिला, इसके लिए सेवा भारती का धन्यवाद करते हैं। 


सांसद अमर सिंह के निधन की खबर को सुनने के बाद सेवा भारतीय के अध्यक्ष डा. जीएन बर्नवाल ने गहरा दुःख व्यक्त करते हुए कहा कि सांसद अमर सिंह के सेवा भाव के कार्यो को अन्नत समय तक याद रखा जायेगा। 


हिन्दुस्थान समाचार


 
Top