सरोकार

Blog single photo

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस : हजारों लोगों को योग से जोड़ चुकी है महिला प्रशिक्षक प्रीति

19/06/2020

शरद वाजपेयी
लखनऊ, 19 जून (हि.स.) । अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2020 के आयोजनों पर कोरोना संकट के बादल घिर आने के कारण बड़ी संख्या में होने वाले सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं हो पा रहे हैं। इसी संकट की घड़ी में हिन्दुस्थान समाचार ने लखनऊ की महिला योग प्रशिक्षक प्रीति जायसवाल से बातचीत की। प्रीति ने आर्ट ऑफ लिविंग से जुड़कर योग सिखाने का कार्य शुरू किया और अभी तक हजारों लोगों को योग से जोड़ चुकी हैं। 

योग प्रशिक्षक प्रीति जायसवाल ने कहा कि वह आर्ट ऑफ़ लिविंग में एक ईमानदार कार्यकर्ता की भूमिका में हैं और योग प्रशिक्षण देने का कार्य करती है। संत श्री श्री रविशंकर की शिष्या होने के साथ ही वह योग से और आर्ट ऑफ लिविंग से 10 वर्षों से जुड़ी हुई है। 

उन्होंने कहा कि वह योग को अपनाकर अपने जीवन में बहुत ही सकारात्मक परिवर्तन को महसूस कर रही हैं। बीते तीन वर्ष से उन्हें योग सोशल सोसायटी ने भी जोड़ रखा है। सोसायटी के लिए वह 21 जून अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर तीन वर्ष से लगातार योग का प्रशिक्षण कार्यक्रम कर रही हैं। बताया कि लोगों के जीवन में योग के माध्यम से सकारात्मक परिवर्तन के लिए प्रयास कर रही है। 

उन्होंने कहा कि योग भारतीय ऋषि मुनियों द्वारा शताब्दियों के शोध एवं तपस्या द्वारा खोजी गई एक वैज्ञानिक जीवन पद्धति है। हमारे शरीर, मन और आत्मा की समस्त शक्तियों को परमात्मा में संयोजित करना ही योग है।

उन्होंने कहा कि योग तो ज्ञान की वह गंगा है, जिसकी प्रत्येक बूंद में रोग को नष्ट करने की अद्भुत शक्ति है। जो ईश्वर से मिलने का मार्ग प्रशस्त करने का माध्यम है। शिक्षा के क्षेत्र में योग की उपयोगिता है तो विज्ञान के क्षेत्र में, चिकित्सा के क्षेत्र में, व्यापार प्रबंधन में भी योग की एक महती भूमिका है। योगाभ्यास, शारीरिक स्वास्थ्य नहीं अपितु मानसिक स्वास्थ्य का भी उत्तम साधन है। इससे जीवन के प्रति व्यक्ति का दृष्टिकोण व्यापक और स्वस्थ होता है।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top