क्षेत्रीय

Blog single photo

पूर्व विधायक अकेला यादव समेत 12 लोगों ने न्यायालय में किया समर्पण

09/10/2019

संजीव

कोडरमा, 09 अक्टूबर (हि.स.)। बरही के
पूर्व विधायक उमाशंकर अकेला सहित
12 आरोपितों ने बुधवार
को कोडरमा कोर्ट में मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी शेखर कुमार के समक्ष समर्पण किया।
न्यायालय ने
सभी को न्यायिक अभिरक्षा में कोडरमा कारागृह
भेज दिया।




उल्लेखनीय है कि चंदवारा थाना
अंतर्गत घोरवाटांड़ निवासी सरस्वती शिशु मंदिर के शिक्षक कवि कुमार गुप्ता की
मौत
11 सितम्बर, 2016 को हो गयी थी। मामला उस समय तूल पकड़ लिया जब कवि कुमार गुप्ता का शव उरवां मोड़
के समीप शंकर मेडिकल के पास चंदवारा के दो युवक छोड़ कर भाग गए थे
आनन-फानन में तत्कालीन चंदवारा थाना प्रभारी वकार हुसैन ने बिना
परिजनों के सूचना दिए कोडरमा सदर अस्पताल में पोस्टमार्टम करवा दिया था।  परिजनों ने कवि कुमार की हत्या की आशंका जाहिर
की और कोडरमा सदर अस्पताल की पोस्टमार्टम रिपोर्ट जिसमें कवि कुमार गुप्ता की मौत
पानी में डूबने से बताया गया था, उस पर एतराज जताया तो मामला
और गंभीर हो गया। 


मामले की जानकारी हजारीबाग के पूर्व सांसद यशवंत सिन्हा
व बरही के पूर्व विधायक उमाशंकर अकेला को मिली
वे लोग
मृतक के घर पहुंचे। जहां परिजनों ने कवि कुमार गुप्ता की हत्या होने की बात कही और
इंसाफ की मांग की। इसी बात पर बरही के पूर्व विधायक उमाशंकर अकेला ने कवि
कुमार के शव को पुनः पोस्टमार्टम रिम्स में कराने को लेकर अपने समर्थकों के साथ
बजरंगबली चौक के समीप बैठकर मांग की। मामले में चंदवारा थाना में तीन
प्राथमिकी दर्ज की गई थी
कवि कुमार हत्या मामले में मृतक
की मां आशा देवी ने थाने में आवेदन देकर चंदवारा के मोहम्मद सरफराज पिता मोहम्मद
करामत मियां व अन्य लोगों पर
मामला दर्ज कराया था।




दूसरा मामला तत्कालीन
डीएसपी कर्मपाल उरांव ने विभिन्न धाराओं में अज्जू सिंह
, अरुण सिंह, अशोक सिंह, बाबूलाल यादव, कुलदीप सोनार, भरथ मोदी, घनश्याम मोदी, रामप्रसाद सोनार, प्रदीप सोनार, रामसेवक सोनार, कृष्णा सोनार तथा द्वारिका प्रसाद राणा सहित लगभग 150 अज्ञात लोगों को अभियुक्त बनाते हुए सड़क पर जाम लगाने आदि में दोषी बनाते हुए मामला
दर्ज कराया था। तीस
री प्राथमिकी छिंदवाड़ा के
तत्कालीन अंचलाधिकारी नंदकुमार राम ने दर्ज करवायी थी
,
जिसमें बरही के पूर्व विधायक उमाशंकर अकेला
,काली यादव,
त्रिभुवन मोदी, राम प्रसाद स्वर्णकार,
संतोष स्वर्णकार, दिलीप राणा, प्रमोद वर्मा, रंजीत सोनी, धीरज सोनी, दीपक सोनी, संदीप सोनी, महेंद्र सोनी, अनिल उर्फ बड़का, अनिल मोदी, बबलू यादव, अनिल मोदी, संजय रविदास, इंद्रदेव रविदास तथा अज्जू सिंह
को नामजद अभियुक्त बनाया था।




आत्मसमर्पण के पूर्व विधायक उमाशंकर
अकेला ने अपने समर्थकों के साथ चंदवारा पहुंचे
, जहां बजरंगबली मंदिर में पूजा अर्चना की तथा मामले के अन्य आरोपितों
के साथ कोडरमा पहुंचे। कोडरमा प्रेस क्लब भवन में
पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि वे न्यायालय का सम्मान करते हैं। उन्होंने कहा कि जनता
को हक दिलाने तथा कवि कुमार गुप्ता को न्याय दिलाने के लिए प्रशासन से उचित जांच
करने की मांग की थी। उन्होंने कहा कि मामले में चंदवारा पुलिस के पक्षपातपूर्ण
रवैया तथा सदर अस्पताल कोडरमा के चिकित्सकों द्वारा गलत पोस्टमार्टम रिपोर्ट दिए
जाने को लेकर अपने समर्थकों के साथ मांग कर रहा था। उन्होंने कहा कि उनके तथा उनके
समर्थकों द्वारा किसी भी प्रकार का कानून का उल्लंघन नहीं किया। ना ही सड़क जाम
किया और ना ही किसी को क्षति पहुंचाया। उन्होंने कहा कि कोडरमा सदर अस्पताल के
पोस्टमार्टम के बाद हमने रिम्स में कवि कुमार गुप्ता का पोस्टमार्टम करवाया
, जिसमें कवि कुमार गुप्ता की हत्या की बात सामने आई। 


उन्होंने कहा कि
प्रशासन अपनी नाकामियों को ढंकने के लिए हमारे साथ-साथ कई लोगों को बेवजह केस में
फंसा दिया गया। उन्होंने कहा कि 
उन्हें जरूर न्याय मिलेगा। कवि
कुमार गुप्ता की हत्या के दो आरोपित अब भी कोडरमा जेल में बंद है।

 

एक को मिली जमानत

घटना के बाद पुलिस ने चंदवारा निवासी सरफराज
अंसारी
, मिराज मियां और इम्तियाज
अंसारी को पकड़ा था
इनमें सरफराज
अंसारी को नाबालिग होने का लाभ मिला और उसे जमानत मिल गई जबकि मिराज अंसारी व
इम्तियाज अंसारी
अब भी कोडरमा जेल में बंद हैं।



 



हिन्दुस्थान समाचार/ संजीव/वंदना












 
Top