राष्ट्रीय

Blog single photo

वकील-पुलिस विवाद : एसआईटी जांच में तीन वायरल वीडियो अहम

08/11/2019

अश्वनी शर्मा

नई दिल्ली, 08 नवम्बर (हि.स.)। तीस हजारी कोर्ट में वकील-पुलिस के बीच हुई हिंसक झड़प मामले की जांच करने वाली स्पेशल इनवेस्टीगेशन टीम (एसआईटी) के लिए तीन वायरल तीन वीडियो जांच की दिशा में अहम साबित होंगे। दरअसल तीनों वीडियों में से एक में वकीलों से घिरीं इलाके की डीसीपी व महिला आईपीएस हैं, दूसरे में पुलिस से वकील घिरे हुए हैं और तीसरे में लॉकअप के पास आग लगाए जाने का दृश्य है। इन वीडियो को पुलिस पूरी घटनाक्रम की जांच में बेहद अहम मान रही है। पुलिस ने तीनों वीडियो को कब्जे में लिया है और उसी के आधार जांच आगे बढ़ा रही है।

वायरल होने वाले तीनों वीडियो की सच्चाई का पता लगाने के लिए इसकी फॉरेंसिक जांच भी कराई जा रही है  ताकि स्पष्ट हो सके कि वायरल होने वाले तीनों वीडियो के साथ कोई छेड़छाड़ तो नहीं की गई। पुलिस का मानना है कि इससे घटनाक्रम की कड़ियों को जोड़ने में काफी मदद मिल सकती है।

 

पूछा आप पुलिस या वकील साफ करें

तीस हजारी अदालत में वकील-पुलिस के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद चल रही तनातनी के बीच दिल्ली पुलिस से सेवानिवृत्त होकर वकालत कर रहे पूर्व डीसीपी एलएन राव के चैंबर पर पोस्टर लगाए गए हैं। इस पोस्टर में सवाल पूछा गया है कि आप वकील हैं या पुलिस अधिकारी। तनाव के इस माहौल के बीच वकील पूर्व पुलिस अधिकारी से यह स्पष्ट जानना चाहते हैं कि वह पुलिस और वकीलों में से किसके साथ खड़े हैं। वहीं टीवी चैनल्स पर आयोजित डिबेट्स में पूर्व पुलिस अधिकारी राव पुलिस का पक्ष लेते हुए नजर आएजिससे वकील नाराज हैं और उन्हें कड़ी आपत्ति भी है। इसलिए वकीलों ने उनके चैंबर के बाहर पोस्टर लगाकर यह सवाल दागा है।

 

पूर्व ऑफिसर ने इस्तीफे की मांग

वकील-पुलिस विवाद को लेकर दिल्ली पुलिस के एक चर्चित पूर्व ऑफिसर राजेंद्र बख्शी ने शुक्रवार को दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक से इस्तीफे की मांग कर दी। दिल्ली पुलिस से सेवानिवृत्त एसीपी ने कहाघायल हवलदार को सांत्वना देने में भी पुलिस कमिश्नर को काफी वक्त लगा। उनके खिलाफ उनके ही मातहत काम करने वालों में नाराजगी हैउन्हें शर्म आनी चाहिए और पद छोड़ देना चाहिए।

 

प्रदर्शन करने वाले पुलिसकर्मी मायूस

उधर घटना के बाद मचे बवाल को देखते हुए आखिरकार स्पेशल सीपी लॉ एंड ऑर्डर नॉर्थ संजय सिंह और एडिशनल डीसीपी हरेंद्र कुमार सिंह का तबादला किए जाने से पूरे पुलिसफोर्स में मायूसी का माहौल है। पुलिस मुख्यालय पर प्रदर्शन करने वाले पुलिसकर्मियों का कहना है कि यह इकतरफा कार्रवाई है।

दरअसल पिछले हफ्ते दिल्ली की तीस हजारी अदालत में वकीलों और पुलिस के बीच झड़प मामले में स्पेशल सीपी संजय सिंह और एडिशनल डीसीपी हरेंद्र कुमार का तबादला कर दिया गया है। इन दोनों को दिल्ली अदालत के आदेश पर हटाया गया है। स्पेशल सीपी (नॉर्थ) लॉ एंड आर्डर संजय सिंह का तबादला लाइसेंसिंग और ट्रांसपोर्ट विभाग में किया गया हैजबकि एडिशनल डीसीपी हरेंद्र कुमार (नॉर्थ) का तबादला रेलवे विभाग में किया गया है। इनके अलावा एक और पुलिस अफसर दिनेश कुमार गुप्ता का भी तबादला किया गया है।

 

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top