क्षेत्रीय

Blog single photo

अयोध्या फैसला आने पर भावनाओं में न बहें : लक्ष्मीनारायण चौधरी

08/11/2019

महेश
मथुरा, 08 नवम्बर (हि.स.)। प्रदेश के पशुधन, दुग्ध विकास मंत्री लक्ष्मीनारायण चौधरी ने शुक्रवार को तीस से अधिक गांवों के प्रधानों के साथ बैठक की और कहा कि सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला आए सभी पक्षों को शांति व्यवस्था रखनी है, इसका सम्मान हम सभी को करना है। फैसला आने पर भावनाओं में न बहें। 
शुक्रवार शाम को लक्ष्मीनारायण चौधरी ने गांव कांमर में दुर्वासा ऋषि आश्रम में क्षेत्र के तीस से अधिक गांवों के प्रधानों की बैठक की। चौधरी ने कहा कि अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला आएगा, वह सबको स्वीकार होगा। सुप्रीम फैसले के बाद जश्न नहीं मनाया जाएगा। सोशल मीडिया के इस्तेमाल में भी संयम बरतना है। अयोध्या मामले से जुड़ा कोई नया पोस्ट सोशल मीडिया पर नहीं डाल जाएगा। विवादित या फिर अफवाह फैलाने वाले कमेंट को शेयर नहीं करना है। हर हाल में माहौल को शांत बनाए रखना है। ऐसा कोई काम नहीं करना है, जिससे देश की एकता, अखंडता पर किसी तरह का प्रभाव पड़े। ग्राम प्रधान ग्रामीणों से संपर्क स्थापित करें। उन्हें साथ लेकर क्षेत्र में जाएं और लोगों को बताएं कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले को सहजता से स्वीकार करें। वैमनस्यता फैलाने वालों को चिन्हित करके जानकारी पुलिस, प्रशासनिक अफसरों को दें। ऐसे मामलों में कड़ी कार्रवाई के प्रावधान हैं। 
उन्होंने कहा कि कि 2001 में क्षेत्र में गोकशी की घटना के बाद भी अमन-चैन कायम रहा, जबकि मेवात क्षेत्र के हजारों गांव छाता की सीमा से लगे हुए है। ऐसे में हम सभी की जिम्मेदारी बन जाती है कि फैसला आने पर भावनाओं में न बहें। 

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top